पांच बाल मजदूरों ने बचायी नेपाल से भागकर जान

Crime

बीडीएन, रक्सौल-पड़ोसी देश नेपाल के बीरगंज स्थित एक फैक्ट्री में महीनों से काम कर रहे पांच मजदूर पिटाई आहत से होकर फैक्ट्री छोड़ फरार हो गए और रक्सौल रेलवे स्टेशन पर भागते हुए आ पहुंचे।जिसे बुधवार को रेलवे स्टेशन पर लावारिस घूमते पांच बच्चों को प्रयास संस्था की टीम ने देखा व अपने नियंत्रण में लेकर आवश्यक तफ्तीश की।साथ ही इसकी सूचना आरपीएफ व जीआरपी को दी गयी।तत्पश्चात उन्हें सुधार गृह(अल्पप्रवास गृह)भेज दिया गया।इन बच्चों की पहचान विकेश कुमार(उम्र 12 वर्ष)पिता- नगीना महतो,माधोपुर गोपाल , थाना-तुरकौलिया, जिला पूर्वी चंपारण , विकाश कुमार,( उम्र 13)पिता प्रमोद पासवान, हरिहर लाल, (उम्र 10 वर्ष ), पिता श्रवण महतो ,रूपलाल कुमार,(उम्र 9 वर्ष), पिता-जयलाल महतो, परदेशी कुमार ,(उम्र 11 वर्ष),पिता-लोरिक महतो,पता सेमुआ, थाना – केसरिया , जिला पूर्वी चंपारण के रूप में की गयी है।पूछताछ के दौरान बच्चों ने बताया कि वे बीरगंज के एक पावरोटी फैक्ट्री में टीकेदार के माध्यम से बाल मजदूर के रूप में फैक्ट्री में काम कर करते रहे।काम करने के एवज में जब मजदूरी आदि की मांग की जाती तो उनकी पिटाई होती थी।इससे तंग आकर वे फैक्ट्री छोड़ भागने में सफल रहे।बाद में वे अपने घर जाने के क्रम में प्लेटफॉर्म पर प्रयास की टीम ने अपने कब्जे में ले लिया।इस आशय की जानकारी संस्था के आशुतोष अमन प्रेस को साझा की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *