प्रेमी युगल 47 दिनों तक पेड़ पर झूलते रहे

Society world

प्रेमिका नहीं रही, प्रेमी का काठमांडु में चल रहा इलाज 

विजय कुमार, रक्सौल-जाको राखे साइयां मर सके ना कोय-कहावत को चरितार्थ करते हुए 47 दिनों तक पेड़ पर लटके होने के बाद भी एक लापता ताइवानी युवक जीवित बरामद कर लिया गया है।सूत्रो के मुताबिक,गत 9 मार्च को अचानक लापता दो ताईवानी 21वर्षिय लाईङ सिङ युन व उसकी प्रेमिका लिउचून(19वर्ष)नामक दो प्रेमी-प्रेमिका पयर्टकों में से एक लाईङ सिङ युन बेहोश व प्रेमिका लिउचून को मृत बरामद किया गया है। नेपाल के धार्दिङ के रुबीभ्याली गाँव से उन्हें बरामद किया गया है। जिन्हें हेलिकॉप्टर से काठमांडू ले जाकर ग्रांडी अस्पताल में इलाज कराया जा रहा है. इसकी जानकारी देते हुए हिमाल पर्यटन विकास समिती धार्दिग के अध्यक्ष तेज गुरुङ ने बताया कि विगत माह 9 मार्च को ये दोनों नेपाल आये थे,जो अचानक गायब हो गए।इसे लेकर भारत स्थित ताईवानी दूतावास द्वारा पर्यटन पुलिस कार्यालय मे आवेदन दिया गया था।जिनके द्वारा दोनों के लापता होने की सूचना पर काफी खोज बीन किया गया।उनलोगो के पास से बरामद कागजात के मुताबिक धार्दिग से बिना कोई सूचना के लाङटाङके राष्ट्रिय निकुंज में वन कार्यालय से घुमने की अनुमति लेकर प्रवेश किये और बिना गाईड व मार्गदर्शक के ही पदयात्रा पर निकल पड़े।रुट की जानकारी नही होने के कारण दोनों फंस गये।बरामद दोनों पर्यटकों में से एक पुरुष पर्यटक लाईङ सिंङयुन पेड़ पर लटका हुआ बरामद किया गया।जो झाड़ी में फंसने के कारण 47 रोज तक पेड़ पर लटके रहा।घुमने के दौरान ही दोनों प्रेमी युगल दो हजार 600 मिटर की उँचाई पर चले गए।वे धार्दिग से लाङटाङ घुमने के लिए निकले थे।हिमपात आने पर बर्फ से फिसल कर दो सौ मिटर नीचे झाड़ी में गिर गये,जिसमे उसकी प्रेमिका की मृत्यु हो गयी व प्रेमी लाइङ सिङ युन पेड़ मे फंस गए।जिनका उपचार ताईवान के ग्रांडी अन्तर्राष्ट्रिय अस्पताल में जारी है।ये दोनो प्रेमी प्रेमिका ताईवान के नेशनल डोङ हुवा युनिवर्सिटी के छात्र-छात्रा है।काँलेज लाईफ में ही दोनो के बीच प्यार हुआ और फिर दोनो भारत के रास्ते नेपाल की सैर करने पहाड़ी वादियों में निकल पड़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *